#21seKyaHoga: मेरी इच्छा का क्या? | भाग 3

मेरी इच्छा का क्या

हम किसे, कब और कैसे प्यार करते हैं, क्या इसे कानून नियंत्रित कर सकता है? क्या एक औरत की इच्छा पर और पहरा लगाया जा सकता है? शायद हमें शादी की कानूनन उम्र में किए जा रहे बदलाव और औरतों की इच्छा के मामले में राज्य के हस्तक्षेप के बीच सम्बन्ध को गहराई से देखने की ज़रुरत है.

#21seKyaHoga: मेरी इच्छा का क्या? में हम PACE की युवा लड़कियों की आवाज़ सुनेंगे. जो पूछ रही हैं कि क्या इस कदम से युवा रिश्तों का अपराधीकरण हो जाएगा? खासकर सहमति से बनाए गए शारीरिक संबंधों के संदर्भ में। इन्हें सुनिए और ध्यान दीजिए कि शादी की कानूनन उम्र बड़ने का, अपना जीवन साथी चुनने के मामले में औरतों की स्वायत्ता पर क्या प्रभाव पड़ता है.

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

ये भी पढ़ें

Skip to content