सीखना सिखाना

यहां हम उस अंदाज़ को पेश करते हैं, जिसके ज़रिए विचारों, अनुभवों और दुनिया भर में तरह-तरह के प्रयोग करने की कोशिश की जा रही है. हम इन प्रयोगों और इसके लिए की जाने वाली पहल को सलाम करते हैं. ज्ञान को समाज रचता है और यह हम सबकी ज़िंदगी का हिस्सा है. सीखना एक जीवंत प्रक्रिया है जिसे हम सब अपनी ज़िंदगी में लगातार अपनाते हैं. हम सीखने के अलग और नए आयाम, सीखने वालों के अद्भुत और नए प्रयास, नारीवादी सोच को ज़मीनी स्तर पर लागू करने की कोशिश को सामने लाते हैं.

खेलना भूलना मत! खेलना न भूलना.

खेल की अपनी ही एक अनोखी दुनिया है. यहां हार–जीत, उत्साह-निराशा, गुस्सा-ख़ुशी और तमाम तरह की चालाकियों का स्वागत है. और लक्ष्य सिर्फ एक, अपना सबसे बेहतरीन खेल खेलना.

डिजिटल भला ये है क्या?

“डिजिटल, भला ये है क्या?”

डिजिटल इंडिया के संवाद में हम ‘किसी को भी पीछे न छोड़ने’ की शपथ लेते तो हैं, मगर इस डिजिटल युग में सत्ता तक पहुंच किसकी है?

लेखन का काम

लेखन का काम

मगर कैसे किसी को कहानी के बारे में सोचना, उसको महसूस करना, समझना, सुनाना और अंत में लिखना सिखाया जाता है?

Skip to content